Yandon ne aaj fir-Geet aur Kavita-21


यादों ने आज फिर मेरा दामन भिगो दिया दिल का कुसूर था मगर आँखों ने रो दिया  मुझको नसीब था कभी सोहबत का सिलसिला लेकिन मेरा नसीब कि उसको भी खो दिया  उनकी निगाह की कभी बारिश जो हो गई मन में जमी जो मैल थी उसको भी धो दिया
Suvichar4u-More Pages
1  2   3   4   5   6  7   8   9   10    Next
     Lord Krishna  | Lord Buddha  | Swami Vivekanand   |  Chanakya
    Friends   |  Sai Baba    |   Aristotle    |   APJ Abdul Kalam
    Hindi suvichar   |  Bhakti    |   Success    |  Amrit Vani
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...