Wednesday, January 23, 2019

Short Story Quotes: - एक स्त्री के लिए उसका सबसे किमती आभूषण क्या है?

एक स्त्री के लिए उसका सबसे किमती आभूषण क्या है?


कुछ दिन पहले मैं नौसेना के एक उत्सव में शामिल होने गया था। जब मैं वहाँ गया तो पता चला कि ये सिर्फ महिलाओं के सम्मान के आयोजित किया गया था। सभी नौ सैना में काम करने वाले कर्मचारियों की पत्नि वहाँ आई हुई थी।

एक स्त्री के लिए उसका सबसे किमती आभूषण क्या है?


मैंने वहां पर देखा कि आगे की पहली पंक्ति में जो तीन महिलाएं बैठी हुई है उनका बहुत खास ध्यान रखा जा रहा है। अगल बगल से पूछने पर पता चला कि उनमें से दो तो सबसे वरिष्ठ अधिकारियों की पत्नियां थी।

लेकिन जो चीज़ मुझे सबसे अज़ीब लगी वो ये कि वो दोनों महिलाओं का अन्य लोगों के प्रति रवैया बहुत बुरा था। वो खुद को जाने क्या समझ रही थी। सब पर हुकुम चला रही थी और बद्तमीजी से बात करना ही वे अपना शान समझ रही थी। 
मैं तो यही सोच रहा था कि आखिर इन महिलाओं के पास खुद का व्यक्तित्व ही क्या था। बस अधिकारी की पत्नी होना ही काफी है क्या?

वहीं दूसरी तरफ ये तीसरी महिला थी जो बहुत ही नम्र और शांत स्वभावी थी। सभी को आदर दे रही थी। आदेश वो भी दे रही थी कर्मचारियों को किन्तु भाषा सुशील थी। पूछने पर पता चला कि वो अध्यापक है यहाँ और इसलिए सबके सम्मान की अधिकारी भी।

तीसरी महिला की पहचान उसके पति से नहीं बल्कि उसकी अपनी थी। उसकी पहचान कराने के लिए वहाँ किसी को उसके पति का नाम नहीं लेना पड़ा।

एक महिला के लिए उसका सबसे किमती आभूषण है उसकी खुद की एक अलग पहचान।
आखिर कब तक हम किसी की बेटी, किसी की पत्नी और किसी की माँ का घण्टा गले मे डालकर घूमेंगे?
किसी भी महिला का आभूषण उसकी विद्या होने पर भी विनम्रता है, और विवेक है - क्या सही क्या गलत, कौन मित्र कौन शत्रु, क्या सत्य और क्या असत्य, क्या धर्म और क्या अधर्म। यह विवेक विद्या के बिना संभव नहीं। विद्या ही मनुष्यमात्र का सबसे किमती आभूषण है। यह बार इसी घटना से स्पस्ठ हो जाता है। विद्या से इन्सान को निर्णय लेना, आत्मनिर्भर बनना और आत्मविश्वास होना, यह सब स्वतः सिद्ध हो जाता है।

शिक्षा (Education):


  1. शिक्षा को कभी पैसे से नहीं तौला जा सकता, यह तो वह आभूषण है जो सबसे मूल्यवान है। 
  2. निपुणता एक प्रकार का मार्ग है, कोई गणतब्य स्थान नहीं, इस मार्ग पर चलना ही शिक्षा कहलाता है। 
  3. शिक्षण केवल यह बताता है कि क्या संभव है और क्या असंभव, लेकिन सीखना असंभव को संभव बना देता है। 

Monday, January 14, 2019

Should such education be able to build human

Education in India

Education coordinates life with Satyam, Shivam, Sundaram. By this it shows the beauty of the intellect, the beauty of the heart and the true nature of the soul. Education works in the process of disrupting inner light. It fills sublime values ​​in excellence and behavior in the character, brilliance, contemplation. On the one hand, where the material side is enriched, on the other hand it is also the proper and the best way to advance towards spiritual uplift.
Should such education be able to build human

Education is a natural inclusion of ethics and spiritual growth. Due to this the nation becomes prosperous and prosperous. It is believed to be akin to the idiocy. Education ignores ignorance and teaches the lessons of tolerance and hard work in the world of behavior. Something like this has manifested in its important policy century:

Jatiyay Dhio Hari Sinchati Rakshi Satyam Mannanti Dishti Pappamaparkoti.
Chetesh Prasadati Dikhu Tanoti Kirtimal Do not know how to do it

Surely education educates its nature. It reveals humanity in humans. This is the beauty of human interaction that makes sense and sense awake. Individuals and societies associate themselves with its sensing sources. For this reason, the cordial atmosphere of love and harmony remains in the educated society.

The teacher or mentor giving education is the person who instills education in the mind and brain of the student in an intuitive and simple way. The teacher's knowledge, style, communication and behavior are very important, because through this, he can realize his students knowledge.

Modern academicians have assessed the characteristics of the teachers under these points-the right knowledge, skillful style, simple and lucid language, sweet behavior, truthfulness, fairness, fairness and affection and goodwill approach towards students.

”The truth is that both the teacher and the learner are complementary to each other. Among them is the connection between holy knowledge. There is a learner who wishes to receive devotional education. It is said in the principle chamber about the qualities of the student- "Gurdodhana nanavaran chhatraam tattaalam aasthi isi studentam." This Upanishad says this way in this way: "I am unmindful of the untimely tani katya ashakhannuo aracashi."

In ancient times, the student reached the teacher with reverence. The teacher put his underlying teachings into the womb by rendering him into a rubbish of sacraments. With this noble feeling the teacher was embellished with the word Antvivar. The teacher used to provide her friendly education to the learner.

In today's modern scenario, it can also be tested in three forms- (1) Knowledgeable (2) affective and (3) functional. It is emphasized in understanding, composing, computing, computing in knowledgeable purposes. Under the emotional aspect, positive growth in students is awakened and motivated to study. The functional process emphasizes the acquired knowledge and inspiration in practical life. The process of obtaining maximum knowledge in the present era has been started in the shortest possible time.

Therefore, such methods are being used from primary schools to colleges, universities. In the methods used, speech or reading method, group discussion or seminar method, collective performance method and correspondence method are main. The help of radio, television and computer is being taken to make them simple, informative and comprehensive.

In the present scenario of education world, despite high level principles and state-of-the-art arrangements, repetition failure and personalization are increasing. When this fact goes deep in, the conclusion is the same. Today's education is prestigious on meaning and work. It has only become a source of livelihood or livelihood. The combination of education which can turn away from penance by joining with splendor and luxury, how can he change the character in contemplation and behavior. The truth is that today's educational landscape is completely misguided

If current education is to be creative, then the value, importance and purpose of education must be understood correctly and the ancient Indian tradition has to be timely revered. The above discrepancies can be overcome by incorporating the sage-consciousness in the teaching process. In the current education, the art of living or spiritual science is essential. True life can not be imagined without it.

Today, the coordination of the ideas of western world academics like Panter, Dewey, Freebell, James Vivekananda, Maharishi Arvind, Lokmanya Tilak, Brahmarshi Dayanand etc. are necessary. Because today society needs such education that can build human and make society and nation evolve and make dynamic.

Education Quotes for you:

  1. Education is a passport of future, so it should be prepared from today.
  2. Education is a powerful weapon that can change the world.
  3. Education teaches us to think deeply and seriously.
  4. Education is the base of life.
  5. Education is the key to opening the box of life.

Friday, January 4, 2019

Spiritual thoughts, Quotes and Suvichar

Quotes for you

आध्यात्मिक विचार और सुविचार

 (Spiritual Thoughts and Quotes)

Without Spiritual Knowledge, life (man and woman) is incomplete.
 If anyone has the property of billions of trillions, he still feels a little lacking in his life. That lack of devotion of God is lacking.
 For his fulfillment, going to the shelter of the perfect Guru will benefit from doing the spiritual pursuit of the full divine, 
 ■ Who is the perfect Guru?
 ■ What is Sanskrut sadana?
 ■ What is spiritual knowledge?
 ■ Which god should worship?
 ■ Who is the perfect divine?
 ■ What is salvation?


Spiritual thoughts in Hindi and English

Spiritual thoughts Sourced by Bhagavad Gita
 
Karma is important because of religion,
Because religion has to be solicited by God,
When doing karma ...
God has to give himself.


The flute is very dear to Lord Krishna, because the flute has three properties. The first flute is not lump. Which indicates that do not keep any kind of lump in your mind that means do not have a sense of exchange in mind. 


भगवान श्रीकृष्ण को गाय बहुत ही प्रिय है। इसका सबसे बड़ कारण यह है कि गाय सब कार्यों में उदार तथा समस्त गुणों से भरपूर होती है।
गाय का मूत्र, गोबर, दूध, दही और घी औषिधीय गुणों से पूर्ण होता है इसलिए इन्हे पंचगव्य कहते हैं।
जो गौ की एक बार प्रदक्षिणा करके प्रणाम करता है, वह सब पापों से मुक्त हो जाता है तथा उसके सभी कार्य दिन प्रतिदिन सफल होने लगते हैं।

 
The second does not ring at all. Believe it, do not say until you say it.

The third plays whenever the melody starts. Say whatever it means, say sweet When such a person sees God in one, then lift it up and lift it with your lips.

By the astrological point of view, the flute removes the negative energy and the effect of kalsarp. Kalsarpa Yoga was also in the Kundali of Shri Krishna. That is why Sri Krishna has affection from the flute.  


Some things that are difficult to do in life

Doing the work that we find difficult and then waiting for its results, this is the time that it is very difficult to cross.

Speaking truth, speaking the truth is not very difficult, but it is very difficult to choose which people have to speak in front of and what place to speak.

Wednesday, December 19, 2018

मैमोरी पॉवर क्या है? - Memory Power, Hindi thoughts on life

मैमोरी पॉवर क्या है?

मैमारी पॉवर अर्थात याददाश्त शक्ति एक ऐसी नोटबुक मानी जाती है जो हर समय हमारी जेब में रहती है।

मैमोरी एक प्रकार की मानसिक प्रक्रिया मानी होती है। इसमें व्यक्ति किसी भी वस्तु या विषय के बारे में ग्रहण की गई जानकारी आदि को दुबारा याद करके चेतना में लाकर पहचानने की कोशिश करता है। कुछ मनोवैज्ञानिकों के अनुसार हमारे मस्तिष्क में किसी भी तरह की जानकारी आदि मैमोरी चिन्हों (Memory traces) के रूप में जमा होती है। इसी तरह कुछ दूसरे मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि, मैमोरी एक रचनात्मक मानसिक प्रक्रिया है। इन मनोवैज्ञानिकों के अनुसार ग्रहण की गई नॉलेज के स्मरण में मस्तिष्क में कई प्रकार के बदलाव होते हैं।

दो महान मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, पहले सीखी गई अनुक्रियाओं (विषय सामग्री) के चिन्हों को आज के समय में व्यक्त करने को ही मैमोरी कहा जाता है। मस्तिष्क में जमा मैमोरी से संबंधित प्रक्रियाओं में मस्तिष्क में क्या-क्या रासायनिक बदलाव होते हैं- उसको लेकर बहुत से प्रयोग किए गए हैं। एक मनोवैज्ञानिक ने बिल्ली पर एक प्रयोग किया और इस आधार पर पहुंचा कि किसी घटना को दुबारा याद करने के दौरान मस्तिष्क की तरंगों का संबंध मस्तिष्क के किसी एक क्षेत्र विशेष से न होकर मस्तिष्क के विभिन्न क्षेत्रों से होता है। एक दूसरे मनोवैज्ञानिक और उसके साथियों ने अपनी प्रयोगात्मक रिसर्चों के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला कि घटनाओं की स्मृति प्रक्रिया में संबंधित स्नायुकोषों के न्यूक्लीयशस में आर.एन.ए. (Ribo nucleic acid) में महत्त्वपूर्ण रासायनिक बदलाव होते हैं।
मनुष्य की मैमोरी को एक सिंगल (एकल) अवस्था नहीं कहा जा सकता क्योंकि मनुष्य़ की मैमोरी अलग-अलग अवस्थाएं होती हैं। इनमें से हर अवस्था दूसरी अवस्था के साथ जुड़ी होती है लेकिन फिर भी सबकी अपनी अलग पहचान होती है।

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मैमोरी की तीन अवस्थाएं होती है-
1.     सांवेदिक मैमोरी (याददाश्त) (Sensory Memory),
2.     अल्पकालिक मैमोरी (याददाश्त) (Short-term Memory)
3.     दीर्घकालिक मैमोरी (याददाश्त) (Long-term Memory)
 
1- सांवेदिक मैमोरी (याददाश्त) (Sensory Memory)- सांवेदिक मैमोरी को वस्तुतः मैमोरी (याददाश्त) की शुरुआती अवस्था माना जाता है। सांवेदिक भंडार में सूचनाएं कुछ देर के लिए ही जमा रहती हैं तथा कुछ देर में ही उनका भंडार समाप्त हो जाता है। इसलिए इसे क्षणिक मैमोरी माना जाता है। 
2- अल्पकालिक मैमोरी (याददाश्त) (Short-term Memory)-  अल्पकालिक मैमोरी अर्थात शोर्ट टर्म मैमोरी को दूसरी अवस्था माना जाता है। इस अवस्था में सूचनाएं मस्तिष्क में 30 सेंकड तक जमा रहती है। जैसे कोई व्यक्ति टेलीफोन डायरेक्ट्री (Telephone Directory) में से किसी व्यक्ति का टेलीफोन नंबर उसे फोन करता है लेकिन फोन नहीं मिलता। दूसरी बार फोन नंबर मिलाने के दौरान उस व्यक्ति को टेलीफोन नंबर याद नहीं आता और उसे दुबारा टेलीफोन डायरेक्ट्री में देखना पड़ता है। इसी प्रकार किसी समारोह आदि में एक व्यक्ति का परिचय किसी दूसरे व्यक्ति से कराया जाता है। व्यक्ति उसके नाम को सुनता है। उससे हाथ मिलाता है और कुछ सेकंड में ही उसका नाम भूल जाता है। ये दोनों उदाहरण शोर्ट-टर्म मैमोरी के लिए अंतर्गत आते हैं।
3- दीर्घकालिक मैमोरी (याददाश्त) (Long-term Memory)-  दीर्घकालिक मैमोरी अर्थात लोंग-टर्म मैमोरी को तीसरी अवस्था माना जाता है। यह अवस्था किसी सूचना अथवा अनुभव की हुई घटना का वह पुनः स्मरण (Recall) तथा पहचान (Recognition) है, जो स्मृतिगत अथवा सीख लेने के बाद कई मिनट या कई घंटों या कई दिनों या वर्षों के बाद होती है। यदि कोई व्यक्ति अपने घर पर पिज्जा खाकर घर से निकलने के बाद अपने मित्र को बताता है कि उसने पिज्जा खाया है। विद्यालय से आने के बाद बच्चा अपनी मां को बताता है कि उसे साईंस पढ़ाने वाले टीचर का क्या नाम है या कोई व्यक्ति अपने बचपन के अनुभवों को सुनाता है तो साफ है कि इन तीनों अवस्थाओं में वह दीर्घकालिक स्मृति अर्थात लोंग-टर्म मैमोरी का उपयोग कर रहा होता है। लोंग-टर्म मैमोरी की अवधि कुछ मिनट से लेकर कई वर्षों तक की होती है।
लोंग-टर्म मैमोरी का मूलभूत आधार अभ्यास (Rehearsal) तथा शोर्ट टर्म मैमोरी में जमा सूचना है जिसे अभ्यास के द्वारा लोंग-टर्म मैमोरी में जमा करने की कोशिश होती है। यह अभ्यास दो प्रकार का होता है। पहला अनुरक्षण अभ्यास (Maintenance Rehearsal) और दूसरा व्यापक अभ्यास (Elaborate Rehearsal)। सूचना को वैसे का वैसा ही शोर्ट टर्म मैमोरी में बनाए रखऩे के लिए अनुरक्षण अभ्यास किया जाता है। उदाहरण- एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति का टेलीफोन नंबर याद रखने के लिए अपने मन में दोहराता रहता है। कुछ देर बाद वह नंबर भूल जाता है।
वस्तुतः इस प्रकार का अभ्यास यांत्रिक या सहज क्रियात्मक (Reflex) होता है। इस तरह के अभ्यास से लोंग-टर्म मैमोरी का आधार नहीं बनता। इसके लिए व्यापक अभ्यास अधिक प्रभावशाली रहता है। इस प्रकार के अभ्यास में व्यक्ति शोर्ट टर्म मैमोरी में जमा सूचना को उसके अर्थ, अभिप्राय अथवा उसके साहचर्य के पदों में दोहराता है। इस प्रकार के अभ्यास से लोंग-टर्म मैमोरी का आधार बनता है।
मैमोरी में सूचनाओं का भंडारण कूट संकेतन (Encoding) प्रकार से होता है। पहले प्रकार का कूट संकेतन सांवेदिक प्रतीकों (Sensory Images) के पदों में और दूसरे प्रकार का कूट संकेतन शब्दार्थ भावार्थ के रूप में होता है। इसी के परिणाम स्वरूप लोंग-टर्म मैमोरी के दो रूप होते हैं। एक मैमोरी का और दूसरा जनरल नॉलेज (Knowledge) का। किसी अखबार में किसी समाचार को पढ़कर हमें सूचना की स्मृति कम या अधिक उसी शब्दावली में होती है। टुलविग (1972) ने इसे घटनात्मक मैमोरी (Episodic Memory) का नाम दिया है। 
व्यक्ति के व्यक्तिगत अनुभव घटनात्मक मैमोरी के अंतर्गत आते हैं। ये मैमोरियां (यादें) काल और स्थान से बंधी होती हैं। इसमें आत्मकथात्मक घटनाओं का समावेश होता है। इसके विपरीत लोंग-टर्म मैमोरी शब्दार्थिक (Semantic) होती है। शब्दार्थिक मैमोरी में व्यक्ति के मन या मस्तिष्क के अंदर दुनिया के संबंध में संगठित ज्ञान जमा होता है। इसके अंतर्गत व्यक्ति के शब्द भंडार और उनके उपयोग का तरीका सम्मिलित होता है। शब्दार्थिक मैमोरी घटनाओं, नियमों, सिद्धांतों और व्यक्ति के व्यपदेशों (Strategies) का भंडार है।
हम भूल क्यों जाते हैं (Why do We Forget)- याद रखना और भूलना एक सिक्के के दो पहलू हैं। व्यक्ति जितनी नॉलेज लेता है, मैमोरी में वह उतनी ग्रहण नहीं कर पाता है और मैमोरी में जितनी भंडारित रखता है उसे दुबारा याद (Recall) नहीं कर पाता है। इसलिए भूल जाने का अर्थ नॉलेज को मस्तिष्क में ग्रहण करने में असफलता या मस्तिष्क में ग्रहण नॉलेज के दुबारा याद करने में असफलता है।
  • संभवतः भूलने के क्षेत्र में मनोवैज्ञानिक एबिंगहास ने सबसे पहले प्रयोगात्मक अध्ययन शुरु किए। उनके अनुसार भूलना एक प्रकार की निष्क्रिय मानसिक प्रक्रिया है। अध्ययनों के आधार पर उन्होंने बताया कि ग्रहण की गई नॉलेज को दुबारा याद करने के बीच जितना समय अधिक होगा, उसे भूलना भी उतना ही ज्यादा होगा। भूलने के संबंध में एबिंगहास के कुछ परिणाम इस प्रकार हैं-
  • 20 मिनट के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 47 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  •  60 मिनट के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 53 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  •  9 घंटे के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 56 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  •  24 घंटे के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 66 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  •  48 घंटे के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 72 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  •  1 सप्ताह के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 75 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
  • 1 महीने के बाद ग्रहण की गई नॉलेज का लगभग 79 प्रतिशत भाग हम भूल जाते हैं।
इसलिए मनोवैज्ञानिक प्रयोगों के आधार पर कहा जा सकता है कि स्टडी की गई नॉलेज की जितनी मात्रा हम मस्तिष्क में ग्रहण करते हैं, उसकी 66 प्रतिशत नॉलेज एक दिन में भूल जाते हैं अर्थात ग्रहण की गई नॉलेज की 34 प्रतिशत मात्रा ही याद रहती है।
  • भूल जाने से बचने के लिए जरूरत है कि स्टडी की गई नॉलेज को बार-बार दोहराया जाए।
  •  प्रयोगों से पता चला है कि विचारों, चित्रों, रेखाचित्रों को सबसे कम भूला जाता है। इसलिए याद की जा रही नॉलेज को विचारों (Thoughts), कल्पना (Imagination), चित्रों (Diagrams) और रेखाचित्र (Line Diagram) के माध्यम से मस्तिष्क में धारण करें।
आदत मैमोरी पॉवर (Habit Memory)- एक ही तरह के कार्य को लगातार करते रहने से हर क्रिया आदत बन जाती है। उदाहरण के लिए टेलीफोन एक्सचेंज के कर्मचारी को शहर के ज्यादातर टेलीफोन नंबर ज्यादातर उपयोग में आने के कारण ऐसे महसूस होते हैं, जैसे टेलीफोन नंबर दिमाग में न होकर डायल करने वाले की अंगुलियों में धारित हों। कंप्यूटर पर कुछ टाइप करते समय हमारे लिए टाइप करने वाले अंग्रेजी शब्द की स्पेलिंग बताना थोड़ी मुश्किल होता है लेकिन हमारी अंगुलियां उस शब्द की सही स्पेलिंग ही टाइप करती है। इसलिए आप समझ गए होंगे कि अगर एक जरूरी नॉलेज को याद रखना है तो कुछ समय तक उसका बार-बार अभ्यास करने से उसमें निपुणता हासिल की जा सकती है।
छाया-चित्र मैमोरी (Photo Graphic Memory)- मनोवैज्ञानिक प्रयोगों से यह सिद्ध हो चुका है कि बच्चों में छाया-चित्र मैमोरी पॉवर होती है। कोई दृश्य या घटना उनके मस्तिष्क में फोटो कैमरा के समान कैद हो जाती है। किसी 8-10 साल के बच्चे ने कुछ समय पहले ही कोई फिल्म देखी हो तो उसकी कहानी आप बच्चे से पूछिए। बच्चा जब कहानी सुना रहा होता है तब उसके चेहरे के हावभाव को पढ़ने की कोशिश कीजिए। 
आपको उसके हाव-भाव देखकर बहुत अचरज होगा कि कहानी बताते समय उसके हावभाव ऐसे बदल रहे हैं जैसे उसके सामने फिल्म चल रही हो। खासकर उस समय जब बच्चे फिल्म की कहानी के किसी मारधाड़ वाले दृश्य के बारे में बता रहा हो। बच्चा ठीक उसी प्रकार हाथ-पैर चलाकर दृश्य दुबारा पेश कर देता है। लेकिन जैसे-जैसे बच्चा बड़ा होना शुरु करता है, वैसे-वैसे उसकी छाया-चित्र मैमोरी पॉवर कम होने लगती है या यूं कहें कि भाषा, गणित तथा खेल इत्यादि में उसके ध्यान और एकाग्रचित्तता से उसकी कल्पना शक्ति के उपयोग करने में कमी आ जाती है।
अब आप थोड़ा अपने खुद के बचपन के बारे में सोचना शुरु कीजिए, आप महसूस करेंगे कि आपको बचपन की कई घटनाएं आज भी याद हैं। जैसे उनकी फिल्म चला दी गई और आपके दिलो-दिमाग पर बचपन के दृश्य चल-चित्र की तरह प्रोजेक्ट किए जा रहे हों। आज भी कोई बहुत ही रोने वाला, डराने वाला, रोमांचकारी, भय या उल्लास का दृश्य आपके दिमाग में ठीक उसी प्रकार मौजूद रहता है। ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए होता है कि वह भाव दिमाग में अत्यंत प्रभावोत्पादक एवं उत्तेजित करने वाले होते हैं। अचानक किसी वाहन की दुर्घटना से मृत व्यक्ति का दृश्य बहुत दिनों तक बार-बार दिमाग के सामने घूमता रहता है। 

 वास्तु शास्त्रा से संबंधित जानकारी के लिए क्लिक करें - सरल वास्तु शास्त्रा

Saturday, December 8, 2018

What is Vastu Shastra? | वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र 

वस्तु शास्त्र की जानकारी

वास्तु शास्त्र से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति- वास्तु शास्त्र ज्ञान-विज्ञान व क्रियात्मक कार्य की वह विद्या है जो मानव को सुख शांति व समृद्धता प्रदान करने के साथ-साथ, जीवत्मा के चारों पुरूषार्थ धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष को प्राप्त करने में सहयोग प्रदान करती है। 
Vastu Shastra in Hindi

धर्म-     धारियति इति धर्मः अर्थात जीवन के किसी भी क्षेत्र में जो भी अच्छा धारण करने योग्य है वह धर्म है।
अर्थ- धर्मानुसार अर्थ की प्राप्ति ही मनुष्य का लक्ष्य होना चाहिए।
काम- धर्म का अनुसरण करते हुए अर्थ की प्राप्ति के बाद अपनी कामनाओं की पूर्ति करना ही काम है।
मोक्ष- जब मनुष्य धर्मानुसार अर्थ व काम की प्राप्ति कर लेता है तब उसे परम शांति मोक्ष प्राप्त करने का हर संभव प्रयत्न करना चाहिए।
चतुर्वर्ग फल प्राप्तिस्सललोकश्च भवेद ध्रुवम्।
शिल्य शास्त्र परिज्ञानान्मर्त्योऽपि सुरतां ब्रजेत।।
अर्थात शिल्प शास्त्र के सम्पूर्ण ज्ञान से मानव के चारों परम पुरूषार्थ धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। यह ध्रुव की तरह अटल सत्य है। 

वास्तु शास्त्र की सम्पूर्ण जानकारियां

  1. वास्तु शास्त्र
  2. घर की सजावट – सरल वास्तु शास्त्र
  3. सरल वास्तु शास्त्र – वास्तु शास्त्र के अनुसार घर
  4. वास्तु शास्त्र के अनुसार बच्चों का कमरा
  5. व्यावसायिक सफलता के लिए वास्तु शास्त्र
  6. वैदिक वास्तु शास्त्र
  7. विभिन्न स्थान हेतु वास्तु शास्त्र के नियम एवं निदान
  8. अंक एवं यंत्र वास्तु शास्त्र
  9. वास्तु शास्त्र के प्रमुख सिद्धान्त
  10. वास्तु शास्त्र के आधारभूत नियम
  11. घर, ऑफिस, धन, शिक्षा, स्वास्थ्य, संबंध और शादी के लिए वास्तु शास्त्र टिप्स
  12. जाने घर का सम्पूर्ण वास्तु शास्त्र, वास्तु शास्त्र ज्ञान और टिप्स
  13. मकान के वास्तु टिप्स – मकान के अंदर वनस्पति वास्तुशास्त्र
  14. वास्तुशास्त्र का विज्ञान से संबंध
  15. वास्तुशास्त्र के सम्पूर्ण नियम और जानकारियां
  16. जीवन और वास्तुशास्त्र का संबंध
  17. मकान को बनाने के लिए वास्तु टिप्स और सुझाव
  18. कैसे दूर करें, जमीन वास्तु दोष
  19. भवनों के लिए वास्तुकला
  20. अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए वास्तु टिप्स
  21. वैदिक वास्तुकला के सिद्धान्त और उसकी जानकारियां
  22. भारतीय ज्योतिष शास्त्र
  23. हिन्दू धर्म में गृहस्थ जीवन और धर्मशास्त्र महत्व
  24. भारतीय रीति-रिवाज तथा धर्मशास्त्र
  25. वास्तु का व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव
  26. घरेलू उद्योग व औद्योगिक संरचनाएं समाज की उन्नति के लिये क्यों आवश्यक है?
  27. विभिन्न प्रकार की भूमि पर मकानों का निर्माण करवाना
  28. मांगलिक की पहचान
  29. युग तथा वैदिक धर्म
  30. हिन्दू पंचांग अथार्त हिन्दू कैलेंडर क्या है?
  31. जन्मपत्री से जानिये जनम कुन्डली का ज्ञान

Featured post

Short Story Quotes: - एक स्त्री के लिए उसका सबसे किमती आभूषण क्या है?

एक स्त्री के लिए उसका सबसे किमती आभूषण क्या है? कुछ दिन पहले मैं नौसेना के एक उत्सव में शामिल होने गया था। जब मैं वहाँ गया तो पता चला ...