Meri bachapan ki yaden

मेरी बचपन की यादें

मेरी बचपन की यादें


        काली कोयल बोल रही है,
डाल-डाल पर डोल रही है।
कु-कु करके गीत सुनाती,
कभी नहीं मेरे घर आती।

       तोता हूं मै तोता हूं,
                   हरे रंग का होता हूं।
      चोंच मेरी लाल है,
                   सुन्दर मेरी चाल है।
                 बागो में मैं जाता हूं,
ताजे फल खाता हूं।
                  उधर से आऐ देख माली,
पत्तो में छूंप जाता हूं।

मछली जल की रानी है,
जीवन उसका पानी है।
हाथ लगाओ डर जाएगी,
बाहर निकालो मर जाएगी,
दो दिन रख दो सड़ जाएगी।

                                         सूरज की किरने आती है,
         सारी कलियाँ खिल जाती है।
                                         अंधकार सब खो जाता है,
         सब जग सून्दर हो जाता है।

मेरी इस कविता से यदि अपकी यादें भी ताजा हुई है तो आप कुछ खास कविता जो आपको याद हो मेरे साथ Share करें हम आपके नाम के साथ यहां पर पोस्ट करेंगे।

My Nick Name - Kitty
Author Name - Indu Singh

Comments

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...