Saturday, March 2, 2013

Teri Ankhe Ab Hogi na Kabhi nam - Geet aur kavita

Teri Ankhe Ab Hogi na Kabhi nam

तेरी आँखें अब होगी ना कभी नम  तू जो देख ले तो भुला दे में सारे ग़म  तू जो चाहे जो बदलेगा मौसम  यह जो पल हैं इन्हे ख़ुशियो से भर लो तुम

Post a Comment

Featured post

What is Vastu Shastra? | वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र  वस्तु शास्त्र की जानकारी वास्तु शास्त्र से धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति- वास्तु शास्त्र ज्ञान-विज्ञान व क्रियात्...