Breaking

Thursday, February 28, 2013

Home >> Unlabelled >> Hamari Kismat-Geet aur Kavita-7

Hamari Kismat-Geet aur Kavita-7


 ये न थी हमारी क़िस्मत के निसाले यार होता . अगर और जीते रहते यही इन्तजार होता .. तेरे वादे पे जिये हम तो ये जान झूठ जाना. के ख़ुशी से मर न जाते अगर ऐतबार होता .. कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीरे-नीय कश को.

No comments:

Related Posts

Comments

Blog Archive

Contact Form

Name

Email *

Message *