Bagiya-Geet Aur Kavita-1

आसमान में उड़ना चाहा, पंखों में कुछ तीर चुभे है अधरो ने गाना तो चाहा, पर मन में ही गीत दबे हैं खिलखिलके हसना तो चाहा, मुसका नोपर लगे हैं

Post a Comment

0 Comments