Breaking

Saturday, March 2, 2013

Home >> Geet >> Hindi Suvichar >> Kavita >> Poem >> Jindagi Hai-Geet aur kavita

Jindagi Hai-Geet aur kavita

Jindagi Hai - Geet aur kavita

तो चारा गर करेगा क्या हम भटकना चाहेंगे तो राहबर करेगा क्या ज़िंदगी है साँस भर उम्र भर की मौत है साँस भर न जी सका उम्र भर करेगा क्या जिसको ढूंढता हुआ दर-ब-दर फिरा है तू

No comments:

Related Posts

Comments

Blog Archive

Contact Form

Name

Email *

Message *