Breaking

Thursday, February 28, 2013

Home >> Unlabelled >> Jindagi abhishai bhi-Geet aur Kavita-3

Jindagi abhishai bhi-Geet aur Kavita-3


ज़िंदगी अभिशाप भी, वरदान भी ज़िंदगी दुख में पला अरमान भी कर्ज़ साँसों का चुकाती जा रही ज़िंदगी है मौत पर अहसान भी

No comments:

Related Posts

Comments

Blog Archive

Contact Form

Name

Email *

Message *