Breaking

Friday, March 1, 2013

Home >> Unlabelled >> Kahane ko to-Geet aur Kavita-27

Kahane ko to-Geet aur Kavita-27


कहने को तो हम, खुश अब भी हैं हम तुम्हारे तब भी थे, हम तुम्हारे अब भी हैं  रूठने-मनाने के इस खेल में, हार गए हैं हम हम तो रूठे तब ही थे, आप तो रूठे अब भी हैं

No comments:

Comments

Blog Archive

Contact Form

Name

Email *

Message *