Jindagi Hai-Geet aur kavita-42


तो चारा गर करेगा क्या हम भटकना चाहेंगे तो राहबर करेगा क्या ज़िंदगी है साँस भर उम्र भर की मौत है साँस भर न जी सका उम्र भर करेगा क्या जिसको ढूंढता हुआ दर-ब-दर फिरा है तू

No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...