Friday, March 1, 2013

Kahane ko to-Geet aur Kavita-27


कहने को तो हम, खुश अब भी हैं हम तुम्हारे तब भी थे, हम तुम्हारे अब भी हैं  रूठने-मनाने के इस खेल में, हार गए हैं हम हम तो रूठे तब ही थे, आप तो रूठे अब भी हैं

Post a Comment

Featured post

A bucket milk | Life changing stories

A bucket milk - life changing stories Once plague spread in a king's kingdom. People started to die around. The king made a lot of m...