Wednesday, May 1, 2019

याद

याद

याद आती हो इस चांदनी रात में

याद आती हो मेरी हर बात में

कमबख्त, ये बसंत भी बसंत ना रहा

तेरी यादों का अब, कोई अंत ना रहा |

तारों के टूटने की आवाज सी आती है

वीरान पड़े इस दिल में, एक हलचल सी हो जाती है

पत्थर से दरिया, अब निकलता भी नहीं

तुम्हें भूलने का जरिया, अब मिलता भी नहीं |

काश, तेरी यादों का पिटारा बना लेता

तेरी एक-एक बात को, सितारा बना लेता

जाने दो, तेरी यादों को अब यहीं छोड़ देता हूँ

इस मुकाम पर अब, जिंदगी को नया मोड़ देता हूँ ||
- श्रीधर शर्मा (Sridhar Sharma)

No comments:

Featured post

Independence Day 2019

सभी प्रिय युजर्स को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ( Independence Day 2019 )। वैसे तो भारत में कई त्योहार मनाए जाते हैं लेकिन स्वतं...