Note for you

"अगर आपके पास हिन्दी में अपना खुद का लिखा हुआ कोई Motivational लेख या सामान्य ज्ञान से संबंधित कोई साम्रगी जो आप हमारी बेबसाइट पर पब्लिश कराना चाहते है तो क्रपया हमें vinay991099singh@gmail.com पर अपने फोटो व नाम के साथ मेल करें ! पसंद आने पर उसे आपके नाम के साथ पब्लिश किया जायेगा ! "
क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये Site आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !  
Writers : - Indu Singh, Jyoti Singh & Vinay Singh

Search your topic...

Swami vivekanand suvichar-11



वेदान्त  कोई  पाप  नहीं  जानता , वो  केवल  त्रुटी  जानता  है . और  वेदान्त  कहता  है  कि  सबसे  बड़ी  त्रुटी  यह कहना  है  कि तुम  कमजोर  हो
Tumhe Andar Se Bahar Ki Taraph Vikasit Hona Hai Koi Tumhe Pada Nahi Sakata Koi Tumhe Aadhyatmik Nahi Bana Sakta Tumhari Atma Ke Alawa Koi Aur Guro Nahi Hai.
Where can we go to find God if we cannot see Him in our own hearts and in every living being. 
Dil Aur Dimag Ke Takaraw Men Dil Ki Suno.
When an idea exclusively occupies the mind, it is transformed into an actual physical or mental state.
Kisi Din Jab Apke Samane Koi Smasya Na Aaye Aap Sunishchit Ho Sakate Hai Ki Aap Galat Marg Par Chal Rahe Hai.
Suvichar4u-More Pages
1  2   3   4   5  6   7   8  9  10  Next
Reactions:

0 Comments: