Note for you

"अगर आपके पास हिन्दी में अपना खुद का लिखा हुआ कोई Motivational लेख या सामान्य ज्ञान से संबंधित कोई साम्रगी जो आप हमारी बेबसाइट पर पब्लिश कराना चाहते है तो क्रपया हमें vinay991099singh@gmail.com पर अपने फोटो व नाम के साथ मेल करें ! पसंद आने पर उसे आपके नाम के साथ पब्लिश किया जायेगा ! "
क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये Site आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !  
Writers : - Indu Singh, Jyoti Singh & Vinay Singh

Search your topic...

Swami Vivekanand Ke Vichar

स्वामी विवेकानंद


Swami Vivekanand ne hamare samaj ke buraiyon ko khatm karane ke liye mahan updesh deye jo prasidh hai.
स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता में हुआ था और इनकी मृत्यु 4 जुलाई, 1902  को बेलूर में हुई थी। यह एक युवा संन्यासी की तरह भारतीय संस्कृति की सुगन्ध को विदेशों में फैलाने वाले साहित्यकार, दर्शनिक और इतिहासकार के रूप में प्रकाण्ड विद्वान थे। इनका मूल नाम श्नरेंद्रनाथ दत्तश् था, जो बाद में स्वामी विवेकानन्द के नाम से विख्यात है। हमारे देष इनके जन्म दिवस को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

स्वामी विवेकानंद  के अनमोल विचार

1. All the powers in the world are already ours. It is we who have put our hands before our eyes and cry that it is dark.
2. Ek Shabd Men, Yah Adarsh Hai Ki Tum Parmatma Ho.
3. As different streams having different sources all mix their waters in the sea, therefore different tendencies, various though they come out, crooked or straight, all lead to God.
4. Khud Ko Kamjor Samajhana Sabse Bada Pap Hai.
5. Condemn none: if you can stretch out a helping hand, do so. If you are not able to fold your hands, bless your brothers, and let them go their own way.
6. Dhany Hai Wo Log Jinke Sharer Doosro Ki Sewa Karane Men Nasht Ho Jate Hai.
7. Never think there is everything impossible for the soul. It is the most heresy to think so. If there is crime, this is the only crime; to say that you are weak, or others are weak.
8. Utho, Jago Aur Tab Tak Nahi Rooko Jab Tak Lakshy Na Prapt Ho Jaye.
9. Dil Aur Dimag Ke Takaraw Men Dil Ki Suno.
10. Bas Wahi Jite Hai Jo Doosaron Ke Liye Jite Hai.
We reap what we sow. we are the makers of our own fate.
हम  जो  बोते  हैं  वो  काटते  हैं . हम  स्वयं  अपने  भाग्य   के  विधाता  हैं

Neither seek nor avoid, take what comes.
Reactions:

0 Comments: