Friday, July 4, 2014

Main aur Aapke Vichar

मैं और आपके विचार


1. प्यार क्या है?- एक लड़की बगिचे में जाती है और वह सबसे अच्छा फूल ढूंढती है, उसे एक गुलाब मिलता है, वह उसे छोडकर आगे बड़ जाती है ताकि उसे इससे भी अच्छा फूल मिले पर उसे कोई भी फूल नहीं मिलता, अंत में वह वापस पहले फूल के पास आ जाती है वहां उसे वह भी फूल नहीं मिलता। उसे बहुत पछतावा होता है कि कास वह पहले फूल को तोड़ ली होती तो उसके पास एक अच्छा फूल होता। 
दोस्तो हमें इससे यह शिक्षा मिलती है कि हमे जो प्यार मिलता है हम उसकी कदर नहीं करते और उससे ज्यादा की कामना करते हैं जिसकी वजह से हमारे हाथ कुछ भी नहीं लगता सिवाय पछताने की। That is true love. इंदु सिंह
एक लड़की बगिचे में जाती है और वह सबसे अच्छा फूल ढूंढती है, उसे एक गुलाब मिलता है
2. जो लोग मुझे गलत समझते हैं उन्हे समझने दें क्योंकि उनके ऐसा समझने से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। इसका कारण सिर्फ इतना है मुझे अपने आपको सही समझे जाने की कोई जिज्ञासा नहीं है। वह मुझे सही समझे या गलत यह उनकी समस्या है, उनका दुख है और इस वजह से मैं उनको भला-बुरा कहने में या किसी तरह की सफाई देने में अपना समय और एनर्जी वेस्ट नहीं करूंगा। - धीरज बंशीवाल


3. आज के समय में काम वो करो जिसको पाने की आप में सामर्थ्य हो, नहीं तो समय और धन दोनों की हानि होगी। - विनय कुमार सिंह


4. पति पत्नि में अक्सर लड़ाई होती रहती है इसका कारण यह है कि कोई भी समझोता करने को तैयार नहीं होता। पति पत्नि को बदलना चाहता है, पत्नि पति को बदलना चाहती है और बच्चे मां बाप को ही बदलना चाहते हैं अगर किसी को बदलना है तो पहले अपने आप को बदलो। इंदु सिंह


5. काम करने में इरादा आपका पक्का है तो काम्याबी अवश्य मिलेगी, इसलिए कर्म करते जाये फल की चिंता न करें। - विनय कुमार सिंह


6. स्वंम को कभी भी कमजोर मत समझो क्योंकि डूबते हुए सूरज को देखकर सभी अपने दरवाजे बंद कर लेते हैं। - शिव मोर्या



(दोस्तों यदि आपके पास भी कोई विचार है और आप उसे मेरे इस ब्लोग में डालना चाहते हैं तो उसे यहां Comment Box में Post करें मैं उसे अवश्य प्रकाशित करूंगी और इसकी सूचना भी आपको E Mail पर दे दूंगी।  धन्यवाद!)
Post a Comment

Featured post

Navaratri and Dussehra Facebook & WhatsApp Images, Jai Mata Di

Navaratri and Dussehra Facebook & WhatsApp Images, Jai Mata Di The auspicious festival of Navratri and Dussehra has come and la...