Friday, March 1, 2013

Pem Ki chhav men-Geet aur Kavita-26


पेड़ की छाँव में, बैठे-बैठे सो गए तुमने मुसकुरा कर देखा, हम तेरे हो गए  तमन्ना जागी दिल में, तुम्हें पाने की तुम्हें पा लिया, और खुद तेरे हो गए  कब तलक यों ही, दूर रहना पड़ेगा इस सोच में डूबे-डूबे, दुबले हो गए
Suvichar4u-More Pages
1  2   3   4   5   6  7   8   9   10    Next
     Lord Krishna  | Lord Buddha  | Swami Vivekanand   |  Chanakya
    Friends   |  Sai Baba    |   Aristotle    |   APJ Abdul Kalam
    Hindi suvichar   |  Bhakti    |   Success    |  Amrit Vani

No comments:

Featured post

Pulkit Thi, Praphoolit Thi - Meri Gudiya, Twinkle Sharma

Pulkit Thi, Praphoolit Thi, Main To Hansti Khelit Ek Phool ki Kali Thi पुलकित थी, प्रफुल्ल थी, मैं तो हंसती खेलती एक फूल की कली थी। ...