Note for you

"अगर आपके पास हिन्दी में अपना खुद का लिखा हुआ कोई Motivational लेख या सामान्य ज्ञान से संबंधित कोई साम्रगी जो आप हमारी बेबसाइट पर पब्लिश कराना चाहते है तो क्रपया हमें vinay991099singh@gmail.com पर अपने फोटो व नाम के साथ मेल करें ! पसंद आने पर उसे आपके नाम के साथ पब्लिश किया जायेगा ! "
क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये Site आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !  
Writers : - Indu Singh, Jyoti Singh & Vinay Singh

Search your topic...

Tum Jo saath hamare hote-Geet aur Kavita-16


तुम जो साथ हमारे होते कितने हाथ हमारे होते  दूर पहुँच से होते जो भी बिल्कुल पास हमारे होते  माफ़ सज़ाएँ होती रहतीं कितने जुर्म हमारे होते

Reactions:

0 Comments: