Ravindar Nath Taigor ke Anmol Vichar-part-8

Ravindar Nath Taigor ke Suvichar


I have become my won
Mai ek aashawadi hone ke apana
Mai soya aur swapan dekha ki
If you shut the door to

Shree Rabindranath Tagore ke anmol vachan


1.      Har Bachcha Isi Sandesh Ke Sath Aata Hai Ki Bhagawan Abhi Tak Manushyon Se Hatotsahit Nahi Hua Hai. 

2.      Har Ek Kathinayee Jisse Aap Munh Mod Lete Hain, Ek Bhoot Ban Kar Aapki Nind Men Baadha Dalegi.

3.      Jo Kuchh Hamara Hai Wo Ham Tak Aata Hai, Yadi Ham Use Graham Karane Ki Kshamata Rakhate Hai. 

4.      Tathy Kayee Hain Par Saty Ek Hai. 

5.      Astha Wo Pandhi Hai Jo Subhah Andhare Hone Par Bhi Ujale Ko Mahasoos Karati Hai. 

6.      Mandir Ki Gambhir Udasi Se Bahar Bhagakar Bachche Dhool Men Baithate Hain. Bhagwan Unhe Khelata Dekhate Hai Aur Pujari Ko Bhool Jate Hain. 

7.      Wo Jo Achchhayee Karane Men Bahut Jyada Vyast Hain, Saway Achchha Hane Ke Liye Samay Nahi Nikal Pata. 

8.      Mai Ek Aashawadi Hone Ka Apna Hi Sansakaran Ban Gaya Hoon, Yadi Main Ek Darwaje Se Nahi Jaa Pata To Doosare Se Jaunga Ya Ek Naya Darawaja Banaunga. Vartaman chahe jitana bhi andhakarmay ho kuchh shaandar saamane aayega. 

9.      Main Soya Aur Swapan Dekha Ki Jiwan Aanand Hai, Mai Jaga Aur Dekha Ki Jiwan Sewa Hai, Miane Sewa Ki Aur Paya Ki Sewa Ananad Hai.

Ravindar Nath Taigor ke Anmol Vichar-part-7

From the solemn
Mandir ki gambhir udasi se bahar
He who is too...
Wo jo achchhye karane men...

Ravindar Nath ke Anmol Vachan

1.      Sirf Tark Nikalane Wala Dimag Ek Aise Chakoo Ke Saman Hota Hai Jisme Sirf Dhaar Hai, Yah To Prayog Karane Wale Ke Haath Men Se Khoon Nikal Deta Hai.

2.      Ayu Sochati Hai Jawani Karati Hai.

3.      Katarata Sach Ko Un Hatho Men Surakshit Rakhane Ki Koshish Karati Hai Jo Use Marana Chahate Hai.

4.      Pankhudiya Tod Kar Aap Phool Ki Khubsoorari Nahi Ikaththa Karate.

5.      Maut Prakash Ko Khatm Karana Nahi Hain Ye Sirf Dipak Ko Bujhana Hai Kyonki Subah Ho Gayee Hai.

6.      Mitrata Ki Gaharayee Parichay Ki Lambayee Par Nirbhar Nahi Karati Hai.

7.      Kisi Bachche Ki Shiksha Apnea Gyan Tak Simit Mat Rakhye Kyonki Wah Kisi Aur Samay Men Paida Hua Hai.

8.      Mitti Ke Bandhan Se Mukti Ped Ke Liye Ajadi Nahi Hai.

Bhagwat gita Adhyay-3-shalok-no-14-15-17

Bhagwat Gita Gyan


  ANNABHDVANTI BHOOTANI PARJANYDANSAMBHAV: ।  YAGYABHDAVATI PARJANY YAG: KARMSAMUDHV: ॥

ANNABHDVANTI BHOOTANI PARJANYDANSAMBHAV:

YAGYABHDAVATI PARJANY YAG: KARMSAMUDHV:

KARM BRAHAMOBHADV VIDHDHI BRAHAMAKSHARASMUBHADAVAM

TASMATSAVARGAT BRAHAM NITY YAGYE PRATISHTHITAM

Bhavarth: Samproon Prani Aan Se Utapann Hote Hain Ann Ki Tupatti Vrishti Se Hoti Hai, vrishti yag se hoti hai aur yag vihit karmo se utapann hone wala hai. Kar samuday ko too ved se utapan aur ved ko avinashi paramatma se utapann hua jaan. Isase sidhd hota hai ki sarvayapi param akshar paramatma sada hi yag men pratishtit hai. 
YASTWATMARATIREV SYADATMATRPTSHCH MANAV: ।  AATMANYEV CHA SANTUSHTSTASY KARY N VIDAYATE. ।

YASTWATMARATIREV SYADATMATRPTSHCH MANAV:

AATMANYEV CHA SANTUSHTSTASY KARY N VIDAYATE.

Bavarth: Parantu Jo Manushy Aatma Men Hi Raman Karane Wala Aur Aatma Me Hi Tript Tatha Aatma Men Hi Santust Ho, Uske Liye Koi Kartvy Nahi Hai.

Bhagwat gita Adhyay-3-shalok-no-7-8-13

Bhagwat Gita Gyan

Bhavarth: Shri Krishan Bhagawan Arajun Se kahate hai ki Hai arjun! Jo Purush Man

Ystvnidryani mansa Niyamyarbhatsarjun

Karmenidhrye: Karmyogmasakt: Sa Vishishyate
Bhavarth: Shri Krishan Bhagawan Arajun Se kahate hai ki Hai arjun! Jo Purush Man Se Indiryon Vash men Kar ke Anashakt Hua Samast Indriyon Dwara Karmyog Ka Aacharan Karata Hai, Wahi Shreshth Hai.
Bhawarath: Shri Krishan Bhagwan Arjun Se is shalok men kahate hai ki He Arjun Too
Niyant Kuru Karm Tatnv Karm Jyayo Haykarman:

Shariryatrapi Cha Te Na Prashidhdyedakarman:

Bhawarath: Shri Krishan Bhagwan Arjun Se is shalok men kahate hai ki He Arjun Too Shastrvihit Kartvykarm Kar Kyonki Karm Na Karane Se Tera Sharir Nirvah Bhi Nahi Sidhd Hoga.

Bhavarth: Is shalok men Shir Krishan Bhagawan Arjun Ko bolate Hai ki Yag Se Bhache

Yagshitashin: Santo Muchynte SarvkilbiShe:

Bhunjate Te TwGh Papa Ye Pachntyatmkaranat

Bhavarth: Is shalok men Shir Krishan Bhagawan Arjun Ko bolate Hai ki Yag Se Bhache Huye Ann Ko Khane Wale Shreshth Purush Sab Papon Se Mukt Ho jate hai aur Jo Papi Log Apna Sharir Poshan Karane Ke liye Hi Ann Pakate Hain, We To Pap Ko Hi Khate Hain.

Sachin Tendulakar ki pranshansha men kahe gaye kathan

Sachin ek mahan cricketer hahe jinke mahanta ke bare men logo ne kuchh shabd bole hain....

Sachin Tendulakar ki pranshansha men kahe gaye kathan:


1. Main chahata hoon ki mera beṭa sachin tendulakar bane. - Brayan lara
 
2. Ham ek ṭeam se nahin hare, jise iṇḍia kahate hain, ham ek insan se hare, jise sachin kahate hain. - Marka ṭelar

 
3. Hamare sath kucha bura nahin ho sakata agar ham iṇḍia men ek havayi - jahaz men ho jis par sachin tendulakar savar ho. - Hasim amala

 
4. Vah valkiṅg - isṭik se bhi leg - glans laga sakate hain. - Vaqar yunis

5. Duniya men do tarah ke ballebaj hain, pahala sachin tendulakar, dusara baki sabhi. - Eṇḍi phlavara
 
6. Mainne bhagavan ko dekha hai, vo ṭesṭ maichon men iṇḍia ki taraph se nambar char par baiṭiṅg karate hain. - Maithiv haiḍen

 
7. Jab main sachin ko baiṭiṅg karate dekhata hoon to main khud ko dekhata hoon . - Ḍan braiḍamen

 
8. Aparadh tab karo jab sachin baiṭiṅg kar rah ho, kyoṅki tab bhagavan bhi tab usaki baiṭiṅg dekhane men vyast hote hain. - Australia prashnshak

 
9. Use kharab gend mat phenko, vo to acchi gendon par bhi cauka marata hai. – Mycal cosprovich


Bhagwat gita Adhyay-3-shalok-4-5-6

Bhagwat Gita Gyan

manush n to karmon ka arambh kiye bina nishkarmata...
Bhavarth: Manusy na to karmon ka arambh kiye  bina niskarmata (jisa avastha ko prapt huye purus ke karm akarm ho jate hain arthat phal utpann nahi kar sakate, us avastha ka nam'niskarmat' hai.) Ko yani yoganistha ko prapt hota hai aur na Karmon ke keval tyagamatr se siddhi yani sankhyanistha ko hi prapt hota hai.
nishandeh koi bhi manush kisi bhi kaal men kshanmatr bhi ina karm...


Bhavarth: Nihsandeh koi bhi manusy kisi bhi kal men ksanamatr bhi bina karm kie nahi rahata kyonki sara manusy samuday prakrti janit guno dvara paravas hua karm karane ke lie badhy kiya jata hai.

jo mudh budhdi manush samast indriyon ko hathporawak upar se rokakar...

Bhavarth: Jo murha buddhi manusy samast indriyom ko hathapurvak upar se rokakar man se un indriyon ke visayon ka cintana karata rahata hai, vah mithyacari arthat dambhi kaha jata hai.

Kabir Daas Ke Dohe - Amrit Vani, Poets

Kabir Amrit Vani Aur Dohe

 कबीर दास जी के दोहे और सुविचार


Bura jo dekhan main chala bura na miliya koye

अर्थ : कबीर जी कहते है कि मैं जब इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न दिखाई दिया और जब मैंने अपने मन के अंदर झाँक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा तो कोई नहीं है।

Pothi padi padi jag hua pandit bhaya na koy day aakhar prem ka pade so pandit hoye

अर्थ : कबीर जी कहते है कि  बड़ी बड़ी पुस्तकें को पढ़ कर संसार में कितने ही व्यक्ति मृत्यु के द्वार पहुँच गए, लेकिन सभी विद्वान न हो सके. वह यह भी मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार से केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले अर्थात वह प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी हो जाता है।

Sadhu aisa chahiye, jaisa soop subhay, Saar saar ko gahi rahai, Thotha dei udaay.

अर्थ : कबीर जी कहते है कि  इस संसार में ऐसे व्यक्तियों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है कहने का अर्थ यह है कि जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे।

Tinka kabahu na nindiye jo paawan tar hoye.

अर्थ : कबीर जी कहते है कि  एक छोटे से तिनके की भी कभी निंदा नहीं करनी चाहिए जो तुम्हारे पांवों के नीचे दब जाता है। अगर कभी वह तिनका उड़कर आँख में आ जाता है तो बहुत अधिक पीड़ा होती है।


Dhire Dhire re mana dhere sab kuchh hoye.

अर्थ : कबीर दास जी कहते हैं कि मन में धीरज रखने से सब कुछ प्राप्त होता है और यदि कोई भी माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो समच आने पर ही आयेगा।


Mala pherat jug bhaya phira n man ka pher


अर्थ : कबीर दास जी किसी व्यक्ति को सलाह देते हुए कहते हैं कि कोई व्यक्ति चाहे लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला फेरता रहे हैं, लेकिन उसके मन का भाव नहीं बदल सकता और न ही  उसके मन की हलचल शांत होगी क्योंकि किसी भी व्यक्ति को हाथ की माला फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलना चाहिए।

Jaati n puchho saadhu ki puchh lijiye gyan


अर्थ : इस दोहे में कबीर दास जी कहते है कि सज्जन व्यक्ति की जाति न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना की कोशिश करनी चाहिए। हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि  कभी भी तलवार का मूल्य होता है उसकी मयान का नहीं


Dos paraye dekhi kari, chala hasant hasant


अर्थ : कबीर दास जी इस दोहे में कहते है कि मनुष्य में एक प्रकार का ऐसा स्वभाव होता है कि जब वह दूसरों के दोष पर हंसता है तो उसे अपने दोष याद नहीं आते। इसका कभी न अंत है और न आदि।


Jin khota tin piayea gahare paani paith

अर्थ : इस दोहे में कबीर दास जी ने मेहनत के बारे में बताया है और कहा है कि जो व्यक्ति प्रयत्न करते हैं, वे कुछ न कुछ उसी प्रकार से पा लेते  हैं जिस प्रकार से कोई मेहनत करने वाला गोताखोर गहरे पानी के अंदर जाता है और कुछ प्राप्त करके आता है लेकिन कुछ व्यक्ति ऐसे भी होते हैं जो डूबने के भय से किनारे पर ही बैठे रहते हैं और कुछ भी नहीं करते।

Boli ek anmol hai, jo koi bolata hai wahi janata hai

अर्थ : इस दोहे में कबीर दास जी ने मेहनत के बारे में बताया है कि यदि कोई सही रूप से बोलना जानता है तो उसे पता है कि वाणी एक अमूल्य रत्न समान हो जाती है। इसलिए कभी भी बोली को ह्रदय के तराजू में तोलकर ही मुंह से बाहर आने देना चाहिए।

Ati ka bhala na bolana aur ati ki bhali n choop

अर्थ : कबीर दास जी कहते है कि हमें कभी भी न तो अधिक बोलना चाहिए और न ही जरूरत से ज्यादा कम क्योंकि यह ठीक उसी प्रकार से है। जैसे कि बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं होती और बहुत अधिक धूप भी अच्छा नहीं कम।

Nindak niyare rakhiye aagan kuti chavay

अर्थ : कबीर दास जी ने इस दोहे में कहा हैं कि जो हमारी निंदा करता है, उस व्यक्ति के अपने अधिकाधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो ऐसा व्यक्ति होता है जो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ बनाता है।


Durlabh manushy janm hain, Deh n baarmbar

अर्थ : कबीर दास जी कहते हैं कि इस मनुष्य का जन्म मुश्किल से होता है। यह मनुष्यों का शरीर उसी तरह बार-बार नहीं प्राप्त होता जिस प्रकार वृक्ष से पत्ता  झड़ जाया करता है और दोबारा डाल पर नहीं आता।


Mange sabki khair, Kabira khada baajar men


अर्थ : कबीर दास जी कहते है कि जब इस संसार में आऐ हैं तो अपने जीवन से यही तमवा रखना चाहिए कि सब जनो का भला हो और संसार में अगर किसी से दोस्ती नहीं तो दुश्मनी भी न करें।


Kabir amrit vani- aapas men dou ladi ladi mue


अर्थ : कबीर दास जी कहते हैं कि हिन्दू राम के भक्त हैं और मुस्लिम रहमान को इस बात को लेकर वे दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुंह में जा जा रहे है और इसके बाद भी दोनों में से कोई सच को न जान पा रहा है।

Inspirational & Motivational Quotes in Hindi-20

 प्रेरणात्मक कथन


प्रेरणात्मक कथन (1.)  लक्ष्य के बारे में सबसे ज़रूरी चीज यह है कि वह होना चाहिए।
(जेफ्फ्री ऍफ़ ऐबेर्ट- Geoffry F. Abert)  
प्रेरणात्मक कथन (2.)  हर चीज का सृजन दो बार हुआ करता है, पहली बार दिमाग में दूसरी बार वास्तविकता में।
(Anonymous)
प्रेरणात्मक कथन (3.)  जीवन की त्रासदी यह नहीं है कि आप अपने लक्ष्य तक नहीं पहुँच पाए बल्कि त्रासदी तो यह है कि आपके पास पहुँचने को कोई लक्ष्य ही नहीं था।
(बेंजामिन मेस-Benjamin Mays )
प्रेरणात्मक कथन (4.)  वह लोग जो जिनके  पास स्पस्ठ और लिखित लक्ष्य होते हैं, वह कम समय में दुसरे लोगों से कहीं ज्यादा  सफलता प्राप्त करते हैं।
(ब्रायन ट्रेसी- Brian Tracy)

Inspirational & Motivational Quotes in Hindi-19

Inspirational & Motivational in Hindi


प्रेरणात्मक कथन (1.)  आप इतने बूढ़े नहीं हो सकते कि एक नया लक्ष्य ना निर्धारित कर पाचे या एक नया सपना देख सकें।
(सी एस लुईस - C. S. Lewis)
प्रेरणात्मक कथन (2.) आप जो खोजेगे वो पाओगे।
(सोफोक्ल्स-  Sophocles)
प्रेरणात्मक कथन (3.)  कार्य  ही सफलता की कुंजी  है।
(पाब्लो पिकासो -Pablo Picasso )
प्रेरणात्मक कथन (4.)  एक सफल व्यक्ति वही है जो औरो के द्वारा अपने ऊपर फेंके गए ईंटों से एक मजबूत नीव बना सकता है।
(डेविड ब्रिंकले -David Brinkley)
प्रेरणात्मक कथन (5.)  मैं अपनी जिंदगी में बार-बार असफल हुआ हूँ और इसलिए मैं अब सफल होता हूँ।
(माइकल जार्डन -Michael Jordan) 

Inspirational & Motivational Quotes in Hindi-18

प्रेरणात्मक सुविचार


प्रेरणात्मक कथन (1.)  या तो आप दिन को चलते हैं या दिन आपको चलाता है।
(जिम रान -Jim Rohn) 
प्रेरणात्मक कथन (2.)  हम सभी यहाँ किसी विशेष कारण (cause) से उपस्थित हैं अपने भूत का कैदी बनना छोड़ दीजिए अपने भविष्य के निर्माता बनिए।
(रोबिन  शर्मा -Robin Sharma )
प्रेरणात्मक कथन (3.)  जितना कठिन (difficult) संघर्ष होगा उतनी ही शानदार जीत होगी।
(थोमस पेन - Thomas Paine)
प्रेरणात्मक कथन (4.)  काम (work) खुद नहीं होता, उन्हें करना पड़ता है।
(जॉन ऍफ़ केनेडी-  John F. Kennedy)
प्रेरणात्मक कथन (5.)  आप अपनी साख इस बात से नहीं प्राप्त कर सकते कि आप क्या करने जा रहे हैं।
(हेनरी फोर्ड - Henry Ford)

Inspirational & Motivational Quotes in Hindi-17

Inspirational & Motivational


प्रेरणात्मक कथन (1.)  यदि हम हल का हिस्सा नहीं हैं, तो हम एक समस्या (Problems) हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (2.)  इन्स्पीरेशन सोच (think)  है जबकि मोटीवेशन कार्रवाई है।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (3.)  लोग यह परवाह (attention) नहीं करते हैं कि आप कितना कुछ जानते हैं, वो तो ये जानना चाहते हैं कि आप कितना ख़याल रख सकते हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (4.)  अच्छे लीडर्स (leader) और लीडर्स बनाने की चेष्ठा करते रहते हैं, बुरे लीडर्स और फालोवार्स बनाने की चेष्ठा करते रहते हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera) 
प्रेरणात्मक कथन (5.)  एक रचनाशील व्यक्ति (Person) कुछ पाने की इच्छा से प्रेरित होता है ना कि औरों को हारने की इच्छा से।
(Ayn Rand-एनी रैंड)

Inspirational & Motivational Quotes in Hindi-16

Inspirational Quotes in Hindi

प्रेरणात्मक कथन (1.)  जीतने वाले व्यक्ति (Winner) अलग चीजें नहीं करते, वो तो चीजों को  अलग तरह से करते हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (2.)  विपरीत परस्थितियों (कठिनइयों) में कुछ लोग टूट जाते हैं , तो कुछ लोग लोग रिकॉर्ड बनाते हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (3.)  यदि आप सोचते हैं कि आप यह कर सकते हैं तो आप कर सकते हैं। यदि आप सोचते हैं कि आप यह नहीं कर सकते हैं तो आप इसे नहीं कर सकते हैं और किसी भी तरह से आप सही हैं।
(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
प्रेरणात्मक कथन (4.)  किसी डिग्री का ना होना फायेदेमंद है यदि आप इंजिनियर या डाक्टर हैं तब आप एक ही काम (work)  को सकते हैं लेकिन अगर आपके पास कोई डिग्री नहीं है तो आप कुछ भी काम कर सकते हैं।

(शिव खेड़ा -Shiv Khera)
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

All Categories

Krishna Suvichar Gandhi Quotes Buddha Suvichar Vivekanand Suvichar Chankya Suvichar Sai Baba Suvichar Aristotle Quotes Bharat Hindi Suvichar Quotes in English Success Thoughts Amrit Vani Mahavir Suvichar Krishna Updesh Great Thoughts Ambani Quotes Atal Bihari Suvichar Nature Quotes Beauty Quotes Satya Vachan Tulsi Anmol Vachan Bhakti Sagar Guru Nanak Dev Suvichar Hindi suvichar English suvichar Sai Anmol Vachan Good thought Bhakti Sagar Friend Suvichar Success thought Great thoght Saty Vachan Amarit Vani Kabir Vichar Kavita Tulsi Das Vichar Gru Nanak ke Pad Vivekanand Ram Krishan Paramhans English Quote Beauty Quotes Mahatma Gandhi Chankya Raas Lila Nature Quotes APJ Adul Kalam Khas Vichar Ambani Quotes Jwahar Laal Neharu RavindraNath Taigor Mother Teresha Sai Baba Quotes Lord Mahavir Ji Soor Das Ke Pad Ras Khan ke Dohe Indara Gandhi Shri Gru Nanak Aristotle Quotes Atal Bihari Vajpayee Aansoo Ke Poem Chankya Quotes Tumhari Ankhon Ke Poem My Love Poem Dosti Anmol Vachan Sai Baba suvichar Chankya suvichar Lord Krishna J L Neharu suvichar Mahatma Buddha Atal bihari suvichar Indara Gandhi quotes Buddha Anmol Vachan Hare Krishna Vichar Arastu ke Vichar Chankya Vichar Indara Gandhi Vichar Sai Baba Vachan Lord Buddha Quotes Vivekananad Vachan Gandhi Anmol Vachan Lord Vishanu Arti Veshno Devi Arti Lakshmi Ji Arti Hanuman ji Arti Sai Baba Arti Ram Ji Arti Radhi Krishna Arti Santoshi Mata Arti Mata Ka Jaikar Shiv Ji Arti Ganesh ji Arti Sundarta ke Vichar Quotes in English Suvichar in Hindi Doha